पिछली बार नोटा रहा था तीसरा उम्मीदवार अबकी बार पहला उम्मीदवार

चुनाव में नोटा का विकल्प राजनीतिक पार्टियों के लिए परेशानी का सबब बन गया है। इसका उपयोग कम से कम हो इसके लिए भाजपा संगठन ने सभी मण्डल अध्यक्षों को ज्याद से ज्यादा लोगों के संपर्क में रहने के लिए निर्देश दिए हैं। खासकर बूथ स्तर पर बनाए गए कार्यकर्ताओं को आवंटित मतदाताओं से निरंतर संपर्क में रहने के लिए कहा गया है। दरअसल पिछले विधानसभा चुनाव में जयपुर शहर की 8 विधानसभा सीट में से 4 में नोटा तीसरे नम्बर पर रहा। भाजपा और कांग्रेस के बाद मतदाताओं ने नोटा का ही उपयोग किया। अन्य प्रत्याशियों को इससे कम वोट मिले। इनमें किशनपोल मालवीय नगर सांगानेर व सिविल लाइन्स विधानसभा क्षेत्र

Leave a Reply