अलवर विधानसभा : अलवर विधानसभा चुनाव में नोटा का भी बढ़ रहा रुझान, लोग बता रहे नोटा को बेहतर

अलवर. अलवर विधानसभा क्षेत्र में लोगों का रुझान नोटा के प्रति भी देखा गया। कई मतदान केन्द्रों पर लोगों ने कहा कि वे किसी भी राजनीतिक दल को वोट नहीं देंगे जबकि वे नोटा का ही उपयोग कर रहे हैं। नोटा के उपयोग से सभी राजनीतिक दलों की मनमर्जी समाप्त होगी। अलवर जिले में नोटा का प्रयोग इस बार अधिक से अधिक करने के लिए समता आंदोलन के पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं ने प्रचार किया था। चुनाव में समता आंदोलन समिति ने कोई भी प्रत्याशी पसंद नहीं होने पर नोटा का बटन दबाने का आह्वान किया था।आंदोलन समिति के राष्ट्रीय अध्यक्ष पाराशर नारायण शर्मा के नेतृत्व में कार्यकर्ता नोटा के बारे में जानकारी दी।
शर्मा का कहना है कि सभी राजनीतिक दल जाति के आधार पर टिकटों का वितरण कर रही है। नोटा के अधिक उपयोग से चुनाव न्यायालय में रद्द भी करवाया जा सकता है। जिस प्रकार संसद व विधानसभा में वाकआउट के माध्यम से विरोध दर्ज कराया जा सकता है। बिना कोई प्रदर्शन किए हुए ही यह विरोध दर्ज कराने का सशक्त माध्यम है। समता आंदोलन के जिलाध्यक्ष आरएस चौहान, सचिव अशोक शर्मा, प्रदेशाध्यक्ष ऋषिराज राठौड़ जिले में घूम घूमकर नोटा का प्रचार -प्रसार किया।

Leave a Reply